The Independence Day

INDIA is celebrating its 75th Independence Day as AZADI KA AMRIT MOHOTSAV.As its our Independence and every Indian feels very special on this day. We celebrate this day with Flag Hoisting ,Parade, Singing out our National Anthem with patriotic song, speech, distribution of sweets and so on. But this year is little special The Central government has also launched Har Ghar Tiranga campaign from 13th to 15 August. Now every Indian is so excited to hoist their National Flag at their house. So this time we will see more creativity to celebrate our National Festival. To help you more there are some ideas to decorate and celebrate the Very Special day with your family and colleagues.
Decorate your office and home :-
You can made simple crafts with the help of the children at home or colleagues at your office and decorate them .This will help them to be unite and will make strong connection with the departments also boost up the creativity around.

Tri colour craft

Attend the celebration in your society and neighborhood:-
You with your family can attend the celebration in your society and you can have singing competition, speeches, painting completion as scheduled for three days. And you can distribute small gifts according to the performances on 15th aug.

Read books or watch patriotic movie

If you love reading or not?what better day to start reading than Independence Day…you can read books like
Vivekanand, Sardar Vallabhbhai Patel, Subhas Chandra Bose, Chandra Shekhar Azad ,Bhagat Singh ,Raja Ram Mohan Roy
Freedom at midnight by Larry Collins and Dominique Lapieree
India after Gandhi by Ramachandra Guha
India wins Freedom the complete version by Abul kalam Azad
A Flag ,A Song,and a pinch of Salt by Subhadra Sen Gupta

If you don’t have any plans to read just sit in front of the TV set and you can have many movies which shows the real struggle of our freedom fighters and battle of wining the ultimate Independence. You can watch movie like border,Bhagat Singh , mulk, lagan ,rang de basanti ,mother India, shaheed and so on.

Things will make a difference:-

Go to orphanage/old age home :-
If you will do good to others the good luck will be their with you as their blessing .You can celebrate this extremely beautiful day by distributing some food to the unprivileged people so you can feel the real happiness of good work and the feeling of to be true Indian .

Plant a tree:-
I personally love to plant tree ,they improve air & absorb toxic chemicals ,give a beautiful ambiance you will give shelter to the birds so on……for me planting a TREE is must on every occasion.

 

 

Plan a trip in a different way:-
India is known for its village life .so plan a trip to the near by village live the real India with the rustic essence. Eat food on floor on a pattal ,watch the green field with the farmers, feed the animals like buffalo ,goat ,cattle and breath the fresh AIR….

 

 


Give flowers to the ARMY OFFICERS and POLICEMAN:-
We are living in our homes safely .An armed forces personnel goes out of his way and is ready is lay down his life for the citizen of his country.so if you get any chance that you can show respect to them please do so..

Take oath:-
Take an oath that you will never waste food and water, never think that some one is inferior or some work is inferior ,always pray for peace with in you and within your Country and the World ,Try to help when you can really help and with the power say it to the world that

                                         I AM PROUD TO BE AN INDIAN

 

A perfect Week End

Do you also wait for the weekend ? Waiting eagerly for Saturday and Sunday .. You work  so hard so you can spend your time with yourself and with your dear one. But weekends are like sand in your hand .oops the day starts like you start cleaning home ,washing clothes etc . So where is the perfect weekend? Oh! My dream weekend which was their in my thoughts full week and nothing happened.

 

If you are suffering with the same problem   here are some tips to help you out…taddaaaa!!!!!

1. Book an appointment

You can book a ticket  using  the site like book my show and others to attend  events near by you so you can enjoy yourself and you can spare yourself dragging into regular routine work.

2. The bucket list

If you remember to do something on the weekend just write it in your bucket list so their will be no confusion  and you will do the things at least you planned.

3. Its your MEE time

Enjoy eating, reading, watching tv, listening to music and just relax.

4. Its your knowledge time

Take  some online classes to increase your knowledge for better future.

5. U will also like

If you are busy Monday to Friday with regular office, school or college you can also spend your time with your parents (love to talk to them)

Go on walk with your friends it will definitely charge you up

You can also spend time for your fitness at home like few exercises  ,yoga and catch up with peace with some meditation.
If you have pets spend your time with your pet.

Play some online games and indulged your self in some gaming mood .but but but only for few hours.E

Everyone requires a pause to re- energize.People are working non stop,and as a result, they are utterly missing on the precious moments that life has to offer.So we don’t have to rush all of the time ;instead ,we may take a pause and rest.

 

 

Devi kavach aol

॥अथ श्री देव्याः कवचम ्॥
ॐ अस्य श्रीचण्डीकवचस्य ब्रह्मा ऋष िः, अनुष्टुप्छन्दिः,
चामुण्डा देवता, अङ्गन्यासोक्तमातरो बीजम्, ददग्बन्धदेवतास्तत्त्वम्,
श्रीजगदम्बाप्रीत्यर्थेसप्तशतीपाठाङ्गत्वेन जपेषवननयोगिः।
ॐ नमश्‍चण्ण्डकायै॥
माकक ण्डेय उवाच
ॐ यद‍गुह्यंपरमंलोके सवकरक्षाकरं नणृ ाम।्
यन्न कस्यचचदाख्यातंतन्मेब्रूदि षपतामि॥१॥
ब्रह्मोवयच
अण्स्त गुह्यतमंषवप्र सवकभतू ोपकारकम।्
देव्यास्तुकवचं पुण्यंतच्छृणुष्व मिामुने॥२॥
प्रर्थमं शैलपुत्री च दषवतीयंब्रह्मचाररणी।
ततृ ीयं चन्रघण्टेनत कूष्माण्डेनत चतुर्थककम्॥३॥
पञ्चमं स्कन्दमातेनत ष्ठं कात्यायनीनत च।
सप्तमंकालरात्रीनत मिागौरीनत चाष्टमम्॥४॥
नवमंससदचधदात्री च नवदगु ाकिः प्रकीनतकतािः।
उक्तान्येतानन नामानन ब्रह्मणैव मिात्मना॥५॥
अण्ग्नना दह्यमानस्तुशत्रुमध्येगतो रणे।
षव मेदगु कमेचैव भयाताकिः शरणंगतािः॥६॥
न ते ांजायतेककंचचदशुभं रणसंकटे।
नापदं तस्य पश्यासम शोकदिःुखभयंन दि॥७॥
यैस्तुभक्त्या स्मतृ ा नूनंते ां वदृचधिः प्रजायते।
येत्वां स्मरण्न्त देवेसश रक्षसेतान्न संशयिः॥८॥
प्रेतसंस्र्था तुचामुण्डा वारािी मदि ासना।
ऐन्री गजसमारुढा वैष्णवी गरुडासना॥९॥
मािेश्‍वरी व ृारुढा कौमारी सशखखवािना।
लक्षमीिः पदमासना देवी पदमिस्ता िररषप्रया॥१०॥
श्‍वेतरुपधरा देवी ईश्‍वरी व ृ वािना।
ब्राह्मी िंससमारुढा सवाकभरणभूष ता॥११॥
इत्येता मातरिः सवाकिः सवकयोगसमण्न्वतािः।
नानाभरणशोभाढ्या नानारत्नोपशोसभतािः॥१२॥
दृश्यन्तेरर्थमारुढा देव्यिः क्रोधसमाकुलािः।
शङ्खं चक्रं गदां शण्क्तं िलं च मुसलायुधम॥् १३॥
खेटकं तोमरं चैव परशुंपाशमेव च।
कुन्तायुधंत्रत्रशूलं च शाङ्कगमायुधमुत्तमम॥् १४॥

दैत्यानां देिनाशाय भक्तानामभयाय च।
धारयन्त्यायुधानीत्र्थं देवानां च दिताय वै॥१५॥
नमस्तेऽस्तुमिारौरेमिाघोरपराक्रमे।
मिाबलेमिोत्सािेमिाभयषवनासशनन॥१६॥
त्रादि मां देषव दष्ुप्रेक्षयेशत्रूणां भयवचधकनन।
प्राच्यां रक्षतुमामैन्री आग्नेय्यामण्ग्नदेवता॥१७॥
दक्षक्षणेऽवतुवारािी नैऋक त्यां खड्गधाररणी।
प्रतीच्यां वारुणी रक्षेद वायव्यां मगृ वादिनी॥१८॥
उदीच्यांपातुकौमारी ऐशान्यांशूलधाररणी।
ऊध्वंब्रह्माखण मेरक्षेदधस्ताद वैष्णवी तर्था॥१९॥
एवं दश ददशो रक्षेच्चामुण्डा शववािना।
जया मेचाग्रतिः पातुषवजया पातुपष्ृठतिः॥२०॥
अण्जता वामपाश्वेतुदक्षक्षणेचापराण्जता।
सशखामुदयोनतनन रक्षेदमु ा मूण्ध्नकव्यवण्स्र्थता॥२१॥
मालाधरी ललाटेच भ्रुवौ रक्षेद यशण्स्वनी।
त्रत्रनेत्रा च भ्रुवोमकध्येयमघण्टा च नाससके ॥२२॥
शङ्खखनी चक्षु ोमकध्येश्रोत्रयोदकवारवाससनी।
कपोलौ कासलका रक्षेत्कणकमूलेतुशांकरी॥२३॥
नाससकायां सुगन्धा च उत्तरोष्ठेच चचचकका।
अधरेचामतृ कला ण्जह्वायां च सरस्वती॥२४॥
दन्तान्रक्षतुकौमारी कण्ठदेशेतुचण्ण्डका।
घण्ण्टकांचचत्रघण्टा च मिामाया च तालुके ॥२५॥
कामाक्षी चचबुकं रक्षेद वाचं मेसवकमङ्गला।
ग्रीवायां भरकाली च पष्ृठवंशेधनुधकरी॥२६॥
नीलग्रीवा बदििःकण्ठेनसलकांनलकूबरी।
स्कन्धयोिः खङ्ङ्‍गनी रक्षेद बािूमेवज्रधाररणी॥२७॥
िस्तयोदकण्ण्डनी रक्षेदण्म्बका चाङ्गुली ुच।
नखाञ्छूलेश्वरी रक्षेत्कुक्षौ रक्षेत्कुलेश्वरी॥२८॥
स्तनौ रक्षेन्मिादेवी मनिः शोकषवनासशनी।
हृदयेलसलता देवी उदरेशूलधाररणी॥२९॥
नाभौ च कासमनी रक्षेद गुह्यंगुह्येश्वरी तर्था।
पूतना कासमका मेढ्रं गुदेमदि वादिनी ॥३०॥
कटयां भगवती रक्षेज्जानुनी षवन्ध्यवाससनी।
जङ्घेमिाबला रक्षेत्सवककामप्रदानयनी ॥३१॥
गुल्फयोनाकरससिं ी च पादपष्ृठेतुतैजसी।
पादाङ्गुली ुश्री रक्षेत्पादाधस्तलवाससनी॥३२॥

नखान्दंष्राकराली च के शांश्‍चैवोध्वकके सशनी।
रोमकूप े ुकौबेरी त्वचंवागीश्‍वरी तर्था॥३३॥
रक्तमज्जावसामांसान्यण्स्र्थमेदांसस पावकती।
अन्त्राखण कालरात्रत्रश्‍च षपत्तं च मुकुटेश्वरी॥३४॥
पदमावती पदमकोशेकफे चूडामखणस्तर्था।
ज्वालामुखी नखज्वालामभेदया सवकसंचध ु॥३५॥
शुक्रं ब्रह्माखण मेरक्षेच्छायांछत्रेश्‍वरी तर्था।
अिंकारं मनो बुदचधंरक्षेन्मेधमकधाररणी॥३६॥
प्राणापानौ तर्था व्यानमुदानं च समानकम्।
वज्रिस्ता च मेरक्षेत्प्राणंकल्याणशोभना॥३७॥
रसेरुपेच गन्धेच शब्देस्पशेच योचगनी।
सत्त्वं रजस्तमश्‍चैव रक्षेन्नारायणी सदा॥३८॥
आयूरक्षतुवारािी धमंरक्षतुवैष्णवी।
यशिः कीनतंच लक्षमींच धनंषवदयां च चकक्रणी॥३९॥
गोत्रसमन्राखण मेरक्षेत्पशून्मेरक्ष चण्ण्डके ।
पुत्रान्रक्षेन्मिालक्षमीभाकयांरक्षतुभैरवी॥४०॥
पन्र्थानं सुपर्था रक्षेन्मागंक्षेमकरी तर्था।
राजदवारेमिालक्षमीषवकजया सवकतिः ण्स्र्थता॥४१॥
रक्षािीनंतुयत्स्र्थानंवण्जकतंकवचेन तु।
तत्सवंरक्ष मेदेषव जयन्ती पापनासशनी॥४२॥
पदमेकं न गच्छेत्तुयदीच्छेच्छुभमात्मनिः।
कवचेनावतृ ो ननत्यंयत्र यत्रैव गच्छनत॥४३॥
तत्र तत्रार्थकलाभश्‍च षवजयिः सावककासमकिः।
यंयंचचन्तयतेकामंतंतंप्राप्नोनत ननण्श्‍चतम्।
परमैश्‍वयकमतुलंप्राप्स्यतेभूतलेपमु ान॥् ४४॥
ननभकयो जायतेमत्यकिः संग्रामेष्वपराण्जतिः।
त्रैलोक्येतुभवेत्पूज्यिः कवचेनावतृ िः पुमान॥् ४५॥
इदं तुदेव्यािः कवचं देवानामषप दलु कभम्।
यिः पठेत्प्रयतो ननत्यंत्रत्रसन्ध्यं श्रदधयाण्न्वतिः॥४६॥
दैवी कला भवेत्तस्य त्रैलोक्येष्वपराण्जतिः।
जीवेद व कशतंसाग्रमपमत्ृयुषववण्जकतिः। ४७॥
नश्यण्न्त व्याधयिः सवेलूताषवस्फोटकादयिः।
स्र्थावरं जङ्गमं चैव कृत्रत्रमं चाषप यदषव म्॥४८॥
असभचाराखण सवाकखण मन्त्रयन्त्राखण भूतले।
भूचरािः खेचराश्‍चैव जलजाश्‍चोपदेसशकािः॥४९॥

सिजा कुलजा माला डाककनी शाककनी तर्था।
अन्तररक्षचरा घोरा डाककन्यश्‍च मिाबलािः॥५०॥
ग्रिभूतषपशाचाश्च यक्षगन्धवकराक्षसािः।
ब्रह्मराक्षसवेतालािः कूष्माण्डा भैरवादयिः ॥५१॥
नश्यण्न्त दशकनात्तस्य कवचेहृदद संण्स्र्थते।
मानोन्ननतभकवेद राज्ञस्तेजोवदृचधकरं परम्॥५२॥
यशसा वधकतेसोऽषप कीनतमक ण्ण्डतभूतले।
जपेत्सप्तशतींचण्डींकृत्वा तुकवचंपरुा॥५३॥
यावदभूमण्डलं धत्तेसशैलवनकाननम्।
तावषत्तष्ठनत मेददन्यां संतनतिः पुत्रपौत्रत्रकी॥५४॥
देिान्तेपरमंस्र्थानंयत्सुरैरषप दलु कभम।्
प्राप्नोनत पुरु ो ननत्यं मिामायाप्रसादतिः॥५५॥
लभतेपरमं रुपंसशवेन सि मोदते॥ॐ॥५६॥
इनत देव्यािः कवचं सम्पूणकम

 

What is Makar Sankranti

_*-Vitamin D is made by the body with sunlight.*_
_*-Sesame seeds (til) have the highest calcium (975mg per 100g). Milk has 125mg only.*_
_*-the body is capable of storing vitamin D up to a year, and use the reserves.*_
_*-lastly, the body is capable of getting its viatmin D reserves full with 3 full days of sunlight.*_
_*-the best quality of sunlight is end of winter & beginning of summer.*_

_*Now join the dots, and see how wise our sages were of ancient India. They created a festival of flying kites, Makar Sankranti where by our kids get excited to go in the open, under direct sunlight, throughout the day starting from early morning. And their mothers feed them homemade TIL Laddoos.*_

_*Are we not a fantastic culture*_

*” _Wish you all a Very Happy Makar Sankrant_ “* 💐💐💐💐

Behtar abhinay ki chnoti se jujhti rajniti aur rangmanch….

बेहतर अभिनय की चुनौती से जूझती राजनीति और रंगमंच …

कौशल किशोर चतुर्वेदी

मध्य प्रदेश में उपचुनाव की तारीख़ तय होने के बाद अब चुनावी रंगमंच के पर्दे की तरफ़ दर्शकों की निगाहें टकटकी लगाए हैं। लोकतंत्र के इस अनूठे रण में अब मतदाता किसका वरण करते हैं, वह परिणाम तो मायने रखते हैं लेकिन इससे भी ज़्यादा महत्वपूर्ण यदि कुछ है तो वह यह कि रंगमंच के इस रुपहले परदे पर कौन पात्र कितनी बेहतर अदाकारी कर मतदाता रूपी दर्शकों का दिल जीतने में सफल हो पाता है।इसे राम-रावण युद्ध की संज्ञा दें या फिर महाभारत युद्ध का तमग़ा, इससे कोई ख़ास फ़र्क पढ़ने वाला नहीं है। नैतिकता- अनैतिकता की बातें लोकतंत्र में जंग खा चुकी हैं। नैतिकता-अनैतिकता के मंचन में भी वाहवाही तो एक्टिंग ही लूटती है। रामानंद सागर के रामायण सीरियल की बात करें तो रावण और मेघनाथ की भूमिका में क्रमश: अरविंद त्रिवेदी और विजय अरोड़ा के अभिनय की तारीफ़ हर कोई करता है। बीआर चोपड़ा निर्मित महाभारत सीरियल में भीष्म पितामह की भूमिका में मुकेश खन्ना और कर्ण की भूमिका में पंकज धीर का अभिनय आज भी सराहा जाता है। रंगमंच पर अभिनय ही महत्व रखता है। हो सकता है कि नायक का अभिनय खलनायक के अभिनय से कमज़ोर पड़े और खलनायक ही दर्शकों का दिल जीतकर नायक पर बाजी मार ले।
मध्य प्रदेश में होने वाले उपचुनाव भी अब रंगमंच के इसी फंडे पर आगे बढ़ रहे हैं। कलाकार की अपनी कोई विचारधारा नहीं होती। वह सिर्फ़ अपनी भूमिका को जीवंत बनाकर अपने अभिनय का परचम फहराता है। इसी तरह मध्य प्रदेश में होने वाले उपचुनावों में विचारधारा की बात अब बेमानी साबित हो रही है। वही चेहरे अब रंगमंच के इस रुपहले पर्दे पर बदली हुई भूमिकाओं में नज़र आने वाले हैं। कल तक जो दूसरी विचारधारा का दम भर रहे थे, आज उसी विचारधारा के विरोध में एक सशक्त अभिनय करने की चुनौती को जीवंत बनाने में जुटे हैं। अक्टूबर महीने की 31 दिन का समय है और इससे पहले तक कांग्रेस विचारधारा को जीने वाले जन प्रतिनिधियों के सामने चुनौती है कि उन्हें कांग्रेस विचारधारा का विरोध करना है और भाजपा की विचारधारा में खुद को बेहतर साबित कर दिखाना है। तो दूसरे खेमे में भी इसी तरह की चुनौती जीने के लिए कई चेहरे मैदान में हैं। जो ताउम्र भाजपा विचारधारा में बेहतर काम कर चुके हैं लेकिन अब कांग्रेस विचारधारा में खुद को बेहतर साबित करने के लिए अक्टूबर के 31 दिन तक चौबीस घंटे रणभूमि में मोर्चा संभालेंगे।

सुरखी विधानसभा उपचुनाव के रण में गोविंद सिंह राजपूत भाजपा का कमल थाम बाजी मारने का दावा करेंगे तो पारुल साहू कांग्रेस के पंजे पर खुद को खरा साबित करने का दम भरेंगी। 2013 विधानसभा चुनाव में दलों के समीकरण ठीक उलटे थे। पर यही दोनों चेहरे आमने-सामने थे।
सांवेर विधानसभा उपचुनाव में तुलसीराम सिलावट अब केसरिया रंग में रंगकर ख़ुशियाँ बटोरने की चाहत में हैं तो केसरिया को अलविदा कह पंजा थामे प्रेमचंद्र गुड्डू मैदान में उनके सामने हैं। मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव के यह दो दृश्य महज बानगी हैं। लगभग ज़्यादातर सीटों पर कुछ ऐसे ही नज़ारे दिखने वाले हैं जिसमें भूमिकाओं में अदला बदली हुई है और नई भूमिकाओं में अपने अभिनय को चरितार्थ कर बाज़ी जीतने की चुनौती लोकतंत्र के कलाकारों के सामने हैं।
तीन नवंबर के पहले मतदाता रूपी दर्शक रंगमंच के पर्दे पर लोकतंत्र के कलाकारों का अभिनय पूरे ग़ौर से देखेंगे और अपना मन भी बना लेंगे कि किस अभिनेता ने कितना सशक्त अभिनय किया है और उनका दिल जीत लिया है। तीन नवंबर को उनका यही आकलन बेहतर अदाकारी के लिए अपनी मुहर लगाएगा और 10 नवंबर को फ़ैसला हो जाएगा कि मतदाताओं के दिल पर कौन अपने अभिनय की अमिट छाप छोड़ पाया है।

  1. वैसे तो राजनीति में दल बदल का खेल हमेशा चलता रहा है लेकिन मध्य प्रदेश के उपचुनावों की खासियत यह है कि एक दल से इस्तीफ़ा देकर दूसरे दल की सदस्यता लेकर चुनाव मैदान में क़िस्मत आज़माने का इससे बड़ा उदाहरण पहले कभी नहीं दिखा। 25 विधायकों ने कांग्रेस से इस्तीफा देकर भाजपा का दामन थामा है। पहले दौर में 22 विधायकों ने इस्तीफा देकर कांग्रेस की सरकार गिराई है और भाजपा की सरकार बनाई है। अब भाजपा की सरकार को बने रहने के लिए इनका फिर से विधायक बनना भी ज़रूरी है।मंगल किस दल के लिए मंगलकारी साबित होता है और किस दल के लिए अमंगलकारी, यह नवंबर में साफ़ हो जाएगा। या मंगल के दिन किस-किस का अभिनय मतदाताओं के सिर चढ़कर बोलता है, इसके लिए मंगलवार को पढ़ने वाली 3 और 10 नवंबर की तारीख़ें महत्वपूर्ण भूमिकाएँ निभाएँगी।
    वैसे इन उपचुनावों का लुत्फ़ हम कुछ इस तरह भी उठा सकते हैं कि रामानन्द के रामायण सीरियल में अरविंद त्रिवेदी राम की भूमिका में और अरुण गोविल रावण की भूमिका में खुद के बेहतर अभिनय की छाप छोड़ने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहे हैं या फिर बीआर चोपड़ा के महाभारत में कृष्ण की भूमिका में पुनीत इस्सर और दुर्योधन की भूमिका में नीतीश भारद्वाज बेहतर अभिनय का तमग़ा हासिल करने के लिए पसीना बहा रहे हैं। अभिनय की दुनिया में कोई भी अभिनेता न तो किसी विशेष विचारधारा का ग़ुलाम है और न ही किसी ख़ास भूमिका का। जिसे जो भूमिका मिले, उसी में खुद को बेहतर साबित कर सके यही अभिनय का हुनर है। निश्चित तौर पर अभिनेता के साथ निर्माता-निर्देशकों की साख भी इसमें दाव पर है। यह बात ख़ास है कि निर्माता-निर्देशक भी विचारधारा, नैतिकता-अनैतिकता से परे सिर्फ़ सफलता के लिए संघर्षरत हैं। क्या आपको भी लगता है कि वर्तमान राजनीति और रंगमंच वर्तमान परिदृश्य में एक-दूसरे के पूरक नज़र आ रहे हैं ?

Jhoot bole kauva Kate…karzmafi par aakhir kaun jhoot bol raha hai…..article by Kaushal kishore Chaturvedi

झूठ बोले कौआ काटे … क़र्ज़माफ़ी पर आख़िर कौन बोल रहा झूठ…

कौशल किशोर चतुर्वेदी

किसान कर्ज़माफ़ी पर मध्य प्रदेश में भाजपा-कांग्रेस के बीच घमासान जारी है। अब मंत्री भूपेंद्र सिंह के कर्जमाफ़ी पर बयान के बाद विधानसभा की साख दाँव पर लग चुकी है।यह सवाल मुँह चिढ़ा रहा है कि विधानसभा में ग़लत जानकारी देने की हिम्मत किसकी हुई है? हालाँकि अब यह बात साफ़ हो चुकी है कि कर्ज़माफ़ी पर कौन सच बोल रहा है और कौन झूठ बोल रहा है, इसका ख़ुलासा होकर रहेगा। क्या दो दलों की सियासी लड़ाई में आखिरकार गाज अफ़सरों पर गिराकर मामले को रफ़ा दफ़ा करने की तैयारी है। वैसे अगर देखा जाए तो विधानसभा में जानकारियां हमेशा सही ही दी जाती है, इसका दावा नहीं किया जा सकता।विधानसभा गवाह है कि सत्ताधारी दल के विधायकों ने ही कई बार आपत्ति दर्ज कराई है कि मंत्रियों ने एक ही सवाल के दो अलग-अलग उत्तर विधानसभा में पेश किए हैं। ख़ैर झूठ बोले कौआ काटे … जैसे भाव सियासत में बेमानी हैं। और आज नहीं तो कल इस बात का फैसला हो ही जाएगा कि क़र्ज़माफ़ी पर आख़िर कौन झूठ बोल रहा है और सच्चाई क्या है…?

फ़िलहाल तो कांग्रेस इस बात को लेकर ख़ुश है और हवा में उछल रही है कि विधानसभा में कांग्रेस सरकार के समय हुई कर्ज़माफ़ी की बात भारतीय जनता पार्टी की वर्तमान सरकार ने विधानसभा में स्वीकार कर ली है। आगामी विधानसभा उपचुनावों में अब कांग्रेस ख़ुद को किसानों के हितैषी होने का खुलकर दावा करेगी और भाजपा पर किसान क़र्ज़माफ़ी के नाम पर झूठ बोलने और प्रदेश की जनता को गुमराह करने का आरोप भी लगाएगी। और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भाजपा पर निशाना साधते हुए किसानों की ऋणमाफी पर झूठ बोलने के लिए शिवराज और सिंधिया से माफी माँगने की माँग भी कर डाली। उनका दावा है कि भाजपा सरकार ने विधानसभा में स्वीकार किया कि लगभग 27 लाख किसानों का साढ़े ग्यारह हजार करोड़ रूपये का ऋण माफ हुआ।पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि किसान क़र्ज़माफ़ी पर मेरी सच्चाई प्रदेश की जनता के सामने आई, भाजपा के झूठ का पर्दाफाश हुआ।

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बयान में कहा कि कांग्रेस सरकार द्वारा किसानों की ऋण माफी पर पहले दिन से ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और कांग्रेस छोड़कर भाजपा में गए ज्योतिरदित्य सिंधिया झूठ बोलते रहे हैं। इस झूठ की राजनीति का पर्दाफाश स्वयं शिवराज सरकार ने विधानसभा में कर दिया है और स्वीकार किया कि प्रदेश में प्रथम और द्वितीय चरण में कांग्रेस की सरकार ने 51 जिलों में 26 लाख 95 हजार किसानों का 11 हजार 6 सौ करोड़ रूपये से अधिक का ऋण माफ किया है। प्रदेश की जनता से सफेद झूठ बोलने और गुमराह करने की घृणित राजनीति के लिए शिवराज सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया को तत्काल प्रदेश की जनता से माफी मांगना चाहिए ।इस सच्चााई को स्वीकार करने के बाद शिवराज सरकार को शेष किसानों की ऋण माफी की प्रक्रिया को शीघ्र शुरू करना चाहिए । उन्होंने कहा कि विधानसभा में जो बहाना ऋण माफी योजना की समीक्षा का बनाया गया है , वह यह बताता है कि भाजपा और शिवराज सिंह किसानों के विरोधी है । कांग्रेस सरकार ने ऋण माफी की जो योजना बनाई थी ,वह पूर्णत: विचार विमर्श के बाद ही तैयार की गई थी , जिसकी समीक्षा करने की कोई गुंजाइश नहीं बचती है।

तो पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और कांग्रेस की ख़ुशी पर ब्रेक लगाते हुए प्रदेश के नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री भूपेंद्र सिंह ने कर्जमाफी पर विधानसभा में दी गयी जानकारी को ठीक नहीं माना है।उनका कहना है कि जांच के आदेश दिए गए है।

फिलहाल जाँच के बाद रिपोर्ट का इंतज़ार करें, फिर सब साफ़ हो जाएगा कि कर्ज़माफ़ी सही है और कांग्रेस सही है या फिर अफ़सर सही है या भाजपा सही है…?

Kisano ke armano par pani ferenge ye bill ya jeetenge dil ….article by Kaushal kishore Chaturvedi ji

किसानों के अरमानों पर पानी फेरेंगे यह बिल या जीतेंगे दिल …!

कौशल किशोर चतुर्वेदी

विपक्ष की आवाज दबाना आसान है…अपनों को मना पाना बहुत मुश्किल है, केन्द्रीय खाद्य एवं प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर के इस्तीफ़े ने यह साफ़ कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए निश्चित तौर से यह एक करारा झटका है। कहीं न कहीं यह किसानों के मुद्दे पर एनडीए के अंदर का मतभेद उजागर हुआ है, जो मनभेद में भी तब्दील हो सकता है। मूल मुद्दा यह है कि किसानों को समृद्ध करने के नाम पर लाए जा रहे कृषि बिल किसानों के अरमानों पर पानी फेरेंगे या किसानों का दिल जीतेंगे, इसको लेकर मोदी के तर्क अपनों को ही संतुष्ट नहीं कर पा रहे हैं। और 2024 आते-आते किसानों की क्या हालत होने वाली है, यह भी पूरी तरह से आशंकाओं से घिरा है। मोदी सरकार के यह कृषि बिल या तो किसानों को ज़मीन से आसमान पर पहुँचाने वाले साबित होंगे या फिर ज़मीन से नीचे रसातल में ले जाएंगे…और यह तय है कि किसान ही 2024 के लोक सभा चुनाव का निर्णायक मतदाता साबित होगा। कहीं न कहीं यह कृषि बिल ही या तो किसानों और मोदी सरकार के लिए रीढ़ की हड्डी साबित होंगे, जैसा कि केंद्र और भाजपा शासित राज्य सरकारों का दावा है या फिर यह बिल किसानों को पूरी तरह से बरबाद कर मौत के मुँह में धकेल देंगे जैसा कि आशंका किसान संगठन और किसान जता रहे हैं। वैसे किसान और किसान संगठनों की चिंता को निराधार नहीं माना जा सकता। किसानों की आत्महत्याओं के आँकड़े सरकारों के संरक्षण में भी ख़ूब फल-फूल रहे हैं , फिर तब क्या होगा जब निजी हाथ किसानों के गलों तक बेरोकटोक पहुँच जाएँगे।

जहाँ तक निजी मंडियों का सवाल है और जिस तरह इन्हें बढ़ावा देने के लिए मंडी टैक्स से रियायत दी गई है, उससे निश्चित तौर पर सरकारी मंडियों का भविष्य दाँव पर लग चुका है। मंडी कर्मचारियों और अधिकारियों की जद्दोजहद अब किसानों की कम और ख़ुद की आर्थिक सुरक्षा की चिंता पर ज़्यादा केंद्रित है। वजह साफ़ है कि जब भेदभाव खुलकर नज़र आ रहा है तब सरकारी मंडियों का अस्तित्व कैसे बच सकता है? जहाँ तक किसानों की बात है तो सरकार द्वारा पिछले 73 सालों से न्यूनतम समर्थन मूल्य , सब्सिडी, खाद, बीज की व्यवस्था करने के बाद भी जब देश का किसान दो वक़्त की रोटी और तन पर दो जोड़ी कपड़े के लिए तरस रहा है, फिर क्या निजी खरीददारों के बोली लगाने के बाद किसान की झोली खुशियों से भर पाएगी? जब सरकार किसानों की फसलों को पूरी तरह से समर्थन मूल्य पर नहीं ख़रीद पाई तब फिर क्या निजी व्यापारी किसानों की मंशा पर भारी नहीं पड़ेंगे? वैसे तो अभी भी कुछ मामले ऐसे सामने आ रहे हैं कि निजी व्यापारियों ने किसानों को फ़सलों की अच्छी क़ीमत देने के सपने दिखाकर उनकी फ़सल ख़रीद ली लेकिन किसानों को उनका पैसा नहीं मिला और वे न्याय के लिए दर- दर भटक रहे हैं। भले ही सरकार 30 दिन में न्याय दिलाने की बात कर रही है लेकिन यह इतना आसान भी नहीं है।इसमें भी क़ानूनी प्रावधान और दाँव पेंच किसानों को महीनों भटकने के लिए मजबूर कर देंगे, तब तक किसान पूरी तरह से टूट जाएगा और मजबूरी में मौत की राह भी पकड़ सकता है।निजी व्यापारियों के मामले में जो सबसे बड़ी समस्या सामने आने वाली है वह किसानों के लुटकर बर्बाद होने की ही है …। जिसको लेकर ही शायद हरसिमरत कौर भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केंद्र सरकार के तर्कों से सहमत नहीं दिखाई दे रही है।अच्छा तो यही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दावा किसानों की क़िस्मत खोल दे और किसान मज़बूत हो जाएँ, उनकी आय दोगुनी हो जाए और गुमराह करने वाली ताक़तों के गाल पर करारा तमाचा पड़े। पर मोदीजी के दावे कितना खरा साबित हो पाएंगे…यही चिंता हरसिमरत कौर की है और किसानों और किसान संगठनों की भी है।

आशंकाएँ सच साबित होती हैं तो न्यूनतम समर्थन मूल्य किसानों के लिए एक सपना बन जाएगा। निजी व्यापारी अलग-अलग तरीक़ों से किसानों को ठगते नज़र आएंगे।कॉरपोरेट सेक्टर तरक़्क़ी करेगा और किसान घुट-घुट कर मरने को मजबूर होगा।
व्यापारियों की नीतियाँ स्वकेंद्रित होती हैं, यह बात किसी से छिपी नहीं है। और दमड़ी के बल पर ही गरीबों की चमड़ी सनातन काल से उधेड़ी जाती रही है। व्यापारियों की कुटिल चालों को भारत ने ही सदियों तक भोगा है।इंग्लैंड से व्यापारी भारत आए थे और कंपनी बनाकर आए थे, उसके बाद भारत के राजा, भारत की प्रजा, भारत के किसान, मज़दूर सभी ग़ुलामी भागने को मजबूर हुए थे। इस लंबी ग़ुलामी से सोने की चिड़िया कहलाने वाला हमारा देश किस दुर्दशा का शिकार हुआ था, यह जगज़ाहिर है। आजाद भारत में भी आदिवासी क्षेत्रों में व्यापारी, सूदखोर पहुँचे और आदिवासियों की दुर्दशा भी किसी से छिपी नहीं है।
अब आजाद भारत में केंद्र सरकार जिस आत्मनिर्भर भारत की कल्पना कर रही है, उसकी सफलता समृद्ध किसानों और कृषि मज़दूरों के मज़बूत कंधों से ही संभव है। पर सरकार की नीति कैसी भी हो लेकिन कृषि बिलों की नियति किसानों के कंधों को मज़बूत करने वाली आशा नहीं जगा पा रही है। हालाँकि देश को प्रधानमंत्री और केंद्र सरकार की सोच पर ही चलना है, उनके फैसलों से चाहे देश आहत हुआ हो या ख़ुश हुआ हो पर बदलाव की गुंजाइश पहले भी कम रही है और अब भी नज़र नहीं आ रही है। ऐसे में यह साफ़ है कि समय ही यह तय करेगा कि किसानों के साथ न्याय हुआ या किसानों को सरकार की सोच के चलते घुटनों पर आने को मजबूर होना पड़ेगा। यह तीन कृषि बिल ही मोदी सरकार की तीसरी पारी पर या तो मुहर लगाएंगे या फिर सत्ता से बाहर का रास्ता भी दिखा सकते हैं।किसानों के दिल टूटेंगे तो सरकारों के भविष्य भी दाव पर लगेंगे और यदि सरकार के दावे किसानों का भाग्य बदल पाए तो निश्चित तौर पर सरकारों के भाग्य भी चमकते रहेंगे।

Rajneeti may naye aayam gadega chambal ka dangal article by Kaushal kishore Chaturvediji

राजनीति में नए आयाम गढ़ेगा चम्बल का दंगल !

कौशल किशोर चतुर्वेदी

आगामी विधानसभा उपचुनावों में चंबल क्षेत्र सबसे अहम किरदार निभाने जा रहा है। आगामी समय में सत्ता में कौन रहेगा, इसका फ़ैसला करने में चंबल क्षेत्र की 16 विधानसभा सीटों की महत्वपूर्ण भूमिका है। हाल ही में ग्वालियर शहर में मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच हुई चुनावी झड़प से साफ़ हो गया है कि चंबल का राजनीतिक दंगल निश्चित तौर से नए आयाम गढ़ेगा। डर इस बात का है कि यह राजनीतिक दंगल हिंसात्मक रुप लेकर उपचुनावों को दाग़दार न बना दे। ग्वालियर-चंबल क्षेत्र की जैसी तासीर रही है, उसमें किसी तरह की आशंका से मुँह नहीं मोड़ा जा सकता। इतिहास गवाह है कि कभी बीहड़ के बाग़ी चंबल क्षेत्र की पहचान रहे हैं। सरकारें भी इनके सामने कई मौकों पर असहाय और बेबस नज़र आयी हैं। जिस अवैध खनन को लेकर भी विधानसभा में हमेशा ही ग्वालियर-चम्बल की चर्चा होती है, उसमें भी दबंगई दूर से ही नज़र आ जाती है। एक आईपीएस सहित अवैध खनन के रास्ते में आए कई सरकारी मुलाजिम चम्बल के ख़ूनी रंगत में अपनी जान गवाँ चुके हैं। इसके बाद भी न तो अवैध खनन रुका है और न ही अवैध खनन करने वालों पर सरकार कोई अंकुश लगा पाई है। चुनावों में भी आमने-सामने की लड़ाई में चम्बल परहेज़ नहीं करता है। चम्बल का ख़ूनी है जो ताल ठोकता है, मारने में गुरेज़ नहीं है और मरने से भी नहीं डरता है।ऐसे में अगर उपचुनाव ने मर्यादा लांघी तो राजनीति ही शर्मसार होगी…जो शांति के टापू मध्य प्रदेश को भी शर्मसार होने पर मजबूर करेगी।हालाँकि जिस तरह मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने भाजपा कार्यकर्ताओं से सब्र से काम लेने की नसीहत दी है, वह पहल सराहनीय है।और सब्र और शांति से चुनाव होने पर चंबल क्षेत्र में राजनीति के नए आयाम गौरव करने का भी भरपूर मौक़ा देंगे।

ग्वालियर-चंबल क्षेत्र की डबरा विधानसभा सीट की भावी उम्मीदवार महिला विकास मंत्री इमरती देवी के कथित वीडियो के वायरल होने से भी राजनीति में चर्चा का दौर जारी है। इसमें मंत्री दावा कर रही हैं कि उपचुनाव में हमें सरकार बचाने 8 सीटें चाहिए और कांग्रेस को सरकार बनाने 27 सीटों की जरूरत है। कांग्रेस सभी 27 सीटें जीत जाएगी। अब आप बता दो कि सत्ता-सरकार का आँखें मींचें बैठी रहेगी और वे सब की सब सीटें जीत लेंगे। सत्ता सरकार में इतनी दम होती है कि जिस कलेक्टर को फोन करेंगे, वह सीट हम जीत जाएंगे। हालाँकि मंत्री इमरती देवी ने वायरल वीडियो को फ़र्ज़ी बताया है लेकिन कांग्रेस ने इस वीडियो के आधार पर चुनाव आयोग को शिकायत की है कि बिना विधायक बने पद पर आसीन सभी मंत्रियों को पद से हटाया जाए ताकि विधानसभा उपचुनाव में वे पद का दुरुपयोग न कर सकें।हालाँकि सत्ता सरकार के आगे निश्चित तौर से प्रशासन-पुलिस नतमस्तक रहते हैं लेकिन जिस तरह वीडियो में दावा किया जा रहा है, वह भी उपचुनावों में परिणामों को लेकर नए राजनीतिक आयाम गढ़ने की बात ही है। राजनीति में सत्ता पर प्रशासनिक दुरुपयोग के आरोप-प्रत्यारोप लगना आम बात है लेकिन यदि कोई मंत्री इस तरह का दावा करें तो निश्चित तौर से सार्वजनिक तौर पर तो आयाम ही गढ़े जाएंगे।

वैसे भी मध्यप्रदेश में होने वाले यह उपचुनाव ऐतिहासिक ही हैं क्योंकि 25 विधानसभा सीटों पर वही चेहरे भाजपा की तरफ़ से मैदान में मतदाताओं से रूबरू होंगे जो विधानसभा चुनाव में तत्कालीन भाजपा सरकार और उसके मुखिया शिवराज सिंह चौहान पर तंज कस रहे थे। अब यही 25 चेहरे 15 महीने तक कांग्रेस सरकार का हिस्सा रहे और उपचुनाव में तत्कालीन कांग्रेस सरकार और उसके मुखिया रहे कमलनाथ की बुराई एवं वर्तमान भाजपा सरकार व मुख्यमंत्री शिवराज की तारीफ़ कर जीत के लिए वोट माँगते नज़र आएँगे।ऐसे में यह उपचुनाव अपने आप में ही नए आयाम गढ़ते दिखेंगे। पहले ज़मीर की परीक्षा होगी, फिर जीत-हार भी नज़ीर बनेगी।मतदाता भी अग्नि परीक्षा के दौर से गुज़रेंगे और प्रत्याशी भी…सरकार किसी भी दल की रहे पर मध्यप्रदेश के उपचुनावों के परिणामों पर पूरे देश की नज़र रहेगी, यह तय है। क्या आयाम गढ़े जाते हैं…वह चौंकाएँगे भी और हँसाएँगे-रुलाएँगे भी पर यह आयाम चंबल के दंगल से ही उपजेंगे। जिसमें नेताओं के सब्र की भी परीक्षा होगी तो नेताओं के चेहरों को काला-सफ़ेद करने का काम भी मंच पर या मैदान में किया जाएगा। मंच और मैदान में लाल धब्बे न दिखें, यह उम्मीद ज़रूर की जानी चाहिए।

Kaun gaddar kaun wafadar….tay karega matdata ka pyaar

‘कौन ग़द्दार’-कौन ‘वफादार’ … तय करेगा मतदाता का प्यार …

कौशल किशोर चतुर्वेदी

अब यह तय हो गया है कि मध्य प्रदेश में विधानसभा की 27 सीटों पर होने जा रहा उपचुनाव में ‘ग़द्दार’ शब्द का दबंगई से दोनों ही प्रमुख राजनीतिक दलों कांग्रेस-भाजपा की तरफ़ से प्रयोग होने वाला है। ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके साथ गए 22 पूर्व विधायकों को लेकर कांग्रेस नेता इस शब्द का प्रयोग पहले से ही कर रहे हैं लेकिन अब ख़ुद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर ‘ग़द्दार’ शब्द चस्पा कर यह साफ़ कर दिया है कि अब जनता ही तय करे कि ‘असल में ग़द्दार’ कौन है ? अब यह मुहर मतदाता ही लगाएगा कि किसके प्रति उसका भाव ‘ग़द्दार’ का है या किसको वह प्रदेश का ‘वफ़ादार’ मानता है। हो सकता है कि उपचुनाव होने तक सीटों की संख्या कुछ और बढ़ जाए, ऐसे में प्रदेश में सरकार को बनाए रखने या बदलने में मतदाता की भूमिका और भी ज़्यादा बढ़ जाएगी।
ज्योतिरादित्य सिंधिया ने हाल ही में पोहरी,करैरा और डबरा में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर की मौजूदगी में कहा कि मेरी दादी राजमाता जी, पिताजी और वर्तमान पीढ़ी का लक्ष्य राजनीति नहीं बल्कि जनसेवा रहा है। कांग्रेस के कार्यकर्ता के रूप में मैंने 20 साल की उम्र में झंडा उठाया था। बहुत आशा और अभिलाषा थी। मकसद एक ही था जनता के विकास और प्रगति का, जो मेरा धर्म बनता था। कांग्रेस कहती है, हमारे विधायक गद्दार थे, लेकिन गद्दार कमलनाथ हैं, जिन्होंने मुख्यमंत्री पद के साथ ऐसा सलूक किया। उन्होंने कहा कि ऐसे गद्दार को सड़क पर लाना सिंधिया परिवार का दायित्व बनता है। सिंधिया ने कहा कि पृथ्वी पर दो भगवान होते हैं। एक वो जो सारी दुनिया का पालन करता है और दूसरा भगवान मतदाता होता है, जो इंसान को नेता बनाता है। उन्होंने कहा कि अगर आप सबका आशीर्वाद रहेगा, तो निश्चित रूप से आने वाले चुनाव में बादल छटेगा, सूरज निकलेगा और कमल खिलेगा।

दूसरी तरफ़ कांग्रेस मानती है कि मध्यप्रदेश में चुनाव तो 2023 में ही होंगे, अभी तो केवल “ग़द्दार ट्रीटमेंट कार्यक्रम” होना है।मध्यप्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने हाल ही में प्रतिक्रिया दी थी कि कल तक जो कहते थे कि हमने जनसेवा के लिए गद्दारी की, वो आज अपने कर्यकर्ताओं को मौज-मस्ती और मलाई के लिए गद्दारी की बात कर रहे हैं।
तो पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भी ट्वीट के ज़रिए सिंधिया पर निशाना साधते हुए पूछ चुके हैं कि शिवराज जी , अपने ईमान का सौदा करना , जनादेश को धोखा देना , पीठ में छुरा घोंपना , जनता व लाखों कांग्रेस कार्यकर्ताओं के विश्वास को तोड़ना , वह भी सिर्फ़ सत्ता की चाह के लिये , पद प्राप्ति के लिये , चंद स्वार्थपूर्ति के लिये ,
वो भी उस पार्टी के साथ जिसने मान – सम्मान , पद सब कुछ दिया , बताये क्या कहलाता है ?
दल छोड़ना व जनता के विश्वास का सौदा करने में बहुत अंतर है।
राजनीतिक क्षेत्र में आज भी कई लोग सिर्फ़ अपने मूल्यों , सिद्धांतों व आदर्शों के लिये जाने जाते हैं और कईयों का इतिहास ही धोखा , ग़द्दारी से जुड़ा हुआ है।
कांग्रेस भी यह बार-बार उम्मीद जता चुकी है कि प्रदेश की जनता लोकतंत्र के हत्यारों को माफ़ नहीं करेगी और उपचुनावों के बाद प्रदेश में एक बार फिर कांग्रेस की सरकार बनेगी।
सिंधिया ने साफ़ कर दिया है कि बागडोर भगवान के रूप में मतदाता के हाथ में है।और कांग्रेस का भरोसा भी मतदाताओं पर है।मध्य प्रदेश में कमल खिला रहे या कमलनाथ की वापसी हो, यह मतदाता रूपी भगवान को ही तय करना है।और परिणाम ही तय करेंगे कि यह भगवान किस को ग़द्दार मानकर हाशिये पर जाने को मजबूर करता है।और किस पर प्यार लुटाकर ‘वफादार’ का सर्टिफ़िकेट चस्पा करता है। हालाँकि जनता यह भी जानती है कि ऐसे शब्दों का अस्तित्व आरोप- प्रत्यारोप के रूप में महज चुनावों तक ही है।उसके बाद लोकतंत्र के यह परिपक्व नुमाइंदे शिष्टाचार की भाषा बोलेंगे और एक दूसरे के प्रति आदर जताएंगे, गले लगाएंगे और एक-दूसरे के सुख-दुख में साथ खड़े होने की औपचारिकता भी बख़ूबी निभाएंगे।जनता फिर अपने दुखों से जूझती हुई भगवान का दर्जा पाने के लिए अगले चुनाव का इंतज़ार करेगी। यह चुनाव ग़द्दार बनाम वफ़ादार में बँटा है तो अगला चुनाव फिर नये जुमले लेकर आएगा और मतदाताओं को नए सिरे से छकाएगा।मतदाताओं के सामने फिर चुनौती होगी कि किसके प्रति लगाव दिखाए और किसके प्रति दुराव।

Covid 19 reopening Bar checklist

Covid 19 Points for Reopening Bar

Before entering the bar…..

1. All guest must sanitize their hands and thermal temperature should be taken with details like name and phone number.
2. A QR should be created, so that guest can select their choice of Drinks and snacks
3. No self service should be encouraged all the high sitting stools to be removed near the bar counter.
: At the bar

1. Either all cutleries and glassware should be replaced with eco friendly and bio decomposed paper.
2. If not all glassware , cutleries should be washed at 180 degree farhenite to kill the bacteria’s
3. Accompaniments like tomato ketchup should be available in sachets
4. Mixers like water, soda and cold drinks should be available at self disposing glasses
5. Limited choice of food and pre-plated food should be served to guest
6. All sitting areas inside the bar should be converted into standing tables ( less guest prefer standing)
7. All sitting areas should be moved to outside venues
8. No live performance of artist
9. Only two guest should be permitted at the Bar counter with proper marking.
10. Bar tender will sanitize the counter top using Pure or Oxivir or other standardized sanitizing materials
11. Minimum employees in the bar as well if it becomes necessary to clear the table, bar staff will wear proper PPE with mask ,shield and gloves.
12. Mask has to changed every two hours(not necessary)
13. Gloves after every service or clearing of tables
14. All garbage would be separated according to following: Yellow bins for food Blue for paper, plastic and unused cutleries( if we go with the options of bio degradable )Red for all empty bottles
15. Guests should pay the bill using QR codes or using UPI or wallets like phone pay or paytm
16. Minimum cash should be handled
17. Bar runners should sanitize the table , chairs and door knobs every 30 minutes.
18. All guest must adhere to social distancing and following the protocols of hygiene, failing to which could lead to refusal of service, insubordination or violent behaviours would be reported to security

Apna Post