Multi-level Marketing Expertise – Fast Methods For Receiving Greatest Results

Network marketing can be a wonderful way to get started in running a business. After all, you have your personal enterprise with strong support from folks higher degrees who would like to view you become successful. You can even bring in new people who will help you to earn money. Allow me to share a recommendations to make certain your home business is actually a success.

That is more essential, developing a network or great advertising? The fact is that the group is why your cash, nevertheless the advertising is what creates the community. Which means you should dedicate a chance to each – foster your network to make certain they’re still making you funds, but push your advertising and marketing to build your group when you have to switch lower earners or quitters.

Whenever you request someone to support advertise your network marketing company, ensure they know what exactly you’re performing! If an individual in their consumers openly asks them what it’s about, and so they blow them back as some advertising and marketing scheme, you’re not getting anything by the partnership using them. Allow them to have a short coupon that will entice buyers to need to find out more.

Like a system online marketer being employed as a recruiter, you will need to display and prove the financial features of the you’re doing. Folks are not able to feel as though they’re being used to mat your own personal banking accounts. Suggest to them instances of men and women who’ve made funds and how they may stick to that path.

Your ease and comfort zone is a crucial component in relation to network marketing, but it’s equally important to distinguish that you need to leave it if you would like develop your group. For instance: You could only maintain tiny poolside get-togethers at the certain place as this is what you’re confident with. Go greater and bolder and Situs Sakong Terpercaya move beyond what you’re used to in order to increase.

If your house is in the in question region, or isn’t actually presentable inside, DON’T ask potential network marketing signal-ups there! Question in order to meet them for gourmet coffee, or at the park your car with a wonderful time. Inform them you’ll be walking around all day long with events so you’ll need to meet them on-the-go. That will make you gaze far more specialist as well. You should buy them a caffeine, also!

In terms of starting up a network marketing prepare, it is important to take your income and make certain to make use of them to further your organization. This is important due to the fact when you find yourself initially starting off it may be appealing to use your earnings for your very own no business connected desires. It is very important build-up your organization just as much as it is possible to in order to succeed with it, and the simplest way to accomplish this is by using this new earnings to do this.

Utilize these ideas to provide you with a robust base. A good network marketing company makes certain that anyone succeeds, and these suggestions can help you do your behalf. You’ll still discover in the process, the two through your up-range and straight down-series, and every piece of information will assist your organization prosper.

Devi kavach aol

॥अथ श्री देव्याः कवचम ्॥
ॐ अस्य श्रीचण्डीकवचस्य ब्रह्मा ऋष िः, अनुष्टुप्छन्दिः,
चामुण्डा देवता, अङ्गन्यासोक्तमातरो बीजम्, ददग्बन्धदेवतास्तत्त्वम्,
श्रीजगदम्बाप्रीत्यर्थेसप्तशतीपाठाङ्गत्वेन जपेषवननयोगिः।
ॐ नमश्‍चण्ण्डकायै॥
माकक ण्डेय उवाच
ॐ यद‍गुह्यंपरमंलोके सवकरक्षाकरं नणृ ाम।्
यन्न कस्यचचदाख्यातंतन्मेब्रूदि षपतामि॥१॥
ब्रह्मोवयच
अण्स्त गुह्यतमंषवप्र सवकभतू ोपकारकम।्
देव्यास्तुकवचं पुण्यंतच्छृणुष्व मिामुने॥२॥
प्रर्थमं शैलपुत्री च दषवतीयंब्रह्मचाररणी।
ततृ ीयं चन्रघण्टेनत कूष्माण्डेनत चतुर्थककम्॥३॥
पञ्चमं स्कन्दमातेनत ष्ठं कात्यायनीनत च।
सप्तमंकालरात्रीनत मिागौरीनत चाष्टमम्॥४॥
नवमंससदचधदात्री च नवदगु ाकिः प्रकीनतकतािः।
उक्तान्येतानन नामानन ब्रह्मणैव मिात्मना॥५॥
अण्ग्नना दह्यमानस्तुशत्रुमध्येगतो रणे।
षव मेदगु कमेचैव भयाताकिः शरणंगतािः॥६॥
न ते ांजायतेककंचचदशुभं रणसंकटे।
नापदं तस्य पश्यासम शोकदिःुखभयंन दि॥७॥
यैस्तुभक्त्या स्मतृ ा नूनंते ां वदृचधिः प्रजायते।
येत्वां स्मरण्न्त देवेसश रक्षसेतान्न संशयिः॥८॥
प्रेतसंस्र्था तुचामुण्डा वारािी मदि ासना।
ऐन्री गजसमारुढा वैष्णवी गरुडासना॥९॥
मािेश्‍वरी व ृारुढा कौमारी सशखखवािना।
लक्षमीिः पदमासना देवी पदमिस्ता िररषप्रया॥१०॥
श्‍वेतरुपधरा देवी ईश्‍वरी व ृ वािना।
ब्राह्मी िंससमारुढा सवाकभरणभूष ता॥११॥
इत्येता मातरिः सवाकिः सवकयोगसमण्न्वतािः।
नानाभरणशोभाढ्या नानारत्नोपशोसभतािः॥१२॥
दृश्यन्तेरर्थमारुढा देव्यिः क्रोधसमाकुलािः।
शङ्खं चक्रं गदां शण्क्तं िलं च मुसलायुधम॥् १३॥
खेटकं तोमरं चैव परशुंपाशमेव च।
कुन्तायुधंत्रत्रशूलं च शाङ्कगमायुधमुत्तमम॥् १४॥

दैत्यानां देिनाशाय भक्तानामभयाय च।
धारयन्त्यायुधानीत्र्थं देवानां च दिताय वै॥१५॥
नमस्तेऽस्तुमिारौरेमिाघोरपराक्रमे।
मिाबलेमिोत्सािेमिाभयषवनासशनन॥१६॥
त्रादि मां देषव दष्ुप्रेक्षयेशत्रूणां भयवचधकनन।
प्राच्यां रक्षतुमामैन्री आग्नेय्यामण्ग्नदेवता॥१७॥
दक्षक्षणेऽवतुवारािी नैऋक त्यां खड्गधाररणी।
प्रतीच्यां वारुणी रक्षेद वायव्यां मगृ वादिनी॥१८॥
उदीच्यांपातुकौमारी ऐशान्यांशूलधाररणी।
ऊध्वंब्रह्माखण मेरक्षेदधस्ताद वैष्णवी तर्था॥१९॥
एवं दश ददशो रक्षेच्चामुण्डा शववािना।
जया मेचाग्रतिः पातुषवजया पातुपष्ृठतिः॥२०॥
अण्जता वामपाश्वेतुदक्षक्षणेचापराण्जता।
सशखामुदयोनतनन रक्षेदमु ा मूण्ध्नकव्यवण्स्र्थता॥२१॥
मालाधरी ललाटेच भ्रुवौ रक्षेद यशण्स्वनी।
त्रत्रनेत्रा च भ्रुवोमकध्येयमघण्टा च नाससके ॥२२॥
शङ्खखनी चक्षु ोमकध्येश्रोत्रयोदकवारवाससनी।
कपोलौ कासलका रक्षेत्कणकमूलेतुशांकरी॥२३॥
नाससकायां सुगन्धा च उत्तरोष्ठेच चचचकका।
अधरेचामतृ कला ण्जह्वायां च सरस्वती॥२४॥
दन्तान्रक्षतुकौमारी कण्ठदेशेतुचण्ण्डका।
घण्ण्टकांचचत्रघण्टा च मिामाया च तालुके ॥२५॥
कामाक्षी चचबुकं रक्षेद वाचं मेसवकमङ्गला।
ग्रीवायां भरकाली च पष्ृठवंशेधनुधकरी॥२६॥
नीलग्रीवा बदििःकण्ठेनसलकांनलकूबरी।
स्कन्धयोिः खङ्ङ्‍गनी रक्षेद बािूमेवज्रधाररणी॥२७॥
िस्तयोदकण्ण्डनी रक्षेदण्म्बका चाङ्गुली ुच।
नखाञ्छूलेश्वरी रक्षेत्कुक्षौ रक्षेत्कुलेश्वरी॥२८॥
स्तनौ रक्षेन्मिादेवी मनिः शोकषवनासशनी।
हृदयेलसलता देवी उदरेशूलधाररणी॥२९॥
नाभौ च कासमनी रक्षेद गुह्यंगुह्येश्वरी तर्था।
पूतना कासमका मेढ्रं गुदेमदि वादिनी ॥३०॥
कटयां भगवती रक्षेज्जानुनी षवन्ध्यवाससनी।
जङ्घेमिाबला रक्षेत्सवककामप्रदानयनी ॥३१॥
गुल्फयोनाकरससिं ी च पादपष्ृठेतुतैजसी।
पादाङ्गुली ुश्री रक्षेत्पादाधस्तलवाससनी॥३२॥

नखान्दंष्राकराली च के शांश्‍चैवोध्वकके सशनी।
रोमकूप े ुकौबेरी त्वचंवागीश्‍वरी तर्था॥३३॥
रक्तमज्जावसामांसान्यण्स्र्थमेदांसस पावकती।
अन्त्राखण कालरात्रत्रश्‍च षपत्तं च मुकुटेश्वरी॥३४॥
पदमावती पदमकोशेकफे चूडामखणस्तर्था।
ज्वालामुखी नखज्वालामभेदया सवकसंचध ु॥३५॥
शुक्रं ब्रह्माखण मेरक्षेच्छायांछत्रेश्‍वरी तर्था।
अिंकारं मनो बुदचधंरक्षेन्मेधमकधाररणी॥३६॥
प्राणापानौ तर्था व्यानमुदानं च समानकम्।
वज्रिस्ता च मेरक्षेत्प्राणंकल्याणशोभना॥३७॥
रसेरुपेच गन्धेच शब्देस्पशेच योचगनी।
सत्त्वं रजस्तमश्‍चैव रक्षेन्नारायणी सदा॥३८॥
आयूरक्षतुवारािी धमंरक्षतुवैष्णवी।
यशिः कीनतंच लक्षमींच धनंषवदयां च चकक्रणी॥३९॥
गोत्रसमन्राखण मेरक्षेत्पशून्मेरक्ष चण्ण्डके ।
पुत्रान्रक्षेन्मिालक्षमीभाकयांरक्षतुभैरवी॥४०॥
पन्र्थानं सुपर्था रक्षेन्मागंक्षेमकरी तर्था।
राजदवारेमिालक्षमीषवकजया सवकतिः ण्स्र्थता॥४१॥
रक्षािीनंतुयत्स्र्थानंवण्जकतंकवचेन तु।
तत्सवंरक्ष मेदेषव जयन्ती पापनासशनी॥४२॥
पदमेकं न गच्छेत्तुयदीच्छेच्छुभमात्मनिः।
कवचेनावतृ ो ननत्यंयत्र यत्रैव गच्छनत॥४३॥
तत्र तत्रार्थकलाभश्‍च षवजयिः सावककासमकिः।
यंयंचचन्तयतेकामंतंतंप्राप्नोनत ननण्श्‍चतम्।
परमैश्‍वयकमतुलंप्राप्स्यतेभूतलेपमु ान॥् ४४॥
ननभकयो जायतेमत्यकिः संग्रामेष्वपराण्जतिः।
त्रैलोक्येतुभवेत्पूज्यिः कवचेनावतृ िः पुमान॥् ४५॥
इदं तुदेव्यािः कवचं देवानामषप दलु कभम्।
यिः पठेत्प्रयतो ननत्यंत्रत्रसन्ध्यं श्रदधयाण्न्वतिः॥४६॥
दैवी कला भवेत्तस्य त्रैलोक्येष्वपराण्जतिः।
जीवेद व कशतंसाग्रमपमत्ृयुषववण्जकतिः। ४७॥
नश्यण्न्त व्याधयिः सवेलूताषवस्फोटकादयिः।
स्र्थावरं जङ्गमं चैव कृत्रत्रमं चाषप यदषव म्॥४८॥
असभचाराखण सवाकखण मन्त्रयन्त्राखण भूतले।
भूचरािः खेचराश्‍चैव जलजाश्‍चोपदेसशकािः॥४९॥

सिजा कुलजा माला डाककनी शाककनी तर्था।
अन्तररक्षचरा घोरा डाककन्यश्‍च मिाबलािः॥५०॥
ग्रिभूतषपशाचाश्च यक्षगन्धवकराक्षसािः।
ब्रह्मराक्षसवेतालािः कूष्माण्डा भैरवादयिः ॥५१॥
नश्यण्न्त दशकनात्तस्य कवचेहृदद संण्स्र्थते।
मानोन्ननतभकवेद राज्ञस्तेजोवदृचधकरं परम्॥५२॥
यशसा वधकतेसोऽषप कीनतमक ण्ण्डतभूतले।
जपेत्सप्तशतींचण्डींकृत्वा तुकवचंपरुा॥५३॥
यावदभूमण्डलं धत्तेसशैलवनकाननम्।
तावषत्तष्ठनत मेददन्यां संतनतिः पुत्रपौत्रत्रकी॥५४॥
देिान्तेपरमंस्र्थानंयत्सुरैरषप दलु कभम।्
प्राप्नोनत पुरु ो ननत्यं मिामायाप्रसादतिः॥५५॥
लभतेपरमं रुपंसशवेन सि मोदते॥ॐ॥५६॥
इनत देव्यािः कवचं सम्पूणकम

 

What is Makar Sankranti

_*-Vitamin D is made by the body with sunlight.*_
_*-Sesame seeds (til) have the highest calcium (975mg per 100g). Milk has 125mg only.*_
_*-the body is capable of storing vitamin D up to a year, and use the reserves.*_
_*-lastly, the body is capable of getting its viatmin D reserves full with 3 full days of sunlight.*_
_*-the best quality of sunlight is end of winter & beginning of summer.*_

_*Now join the dots, and see how wise our sages were of ancient India. They created a festival of flying kites, Makar Sankranti where by our kids get excited to go in the open, under direct sunlight, throughout the day starting from early morning. And their mothers feed them homemade TIL Laddoos.*_

_*Are we not a fantastic culture*_

*” _Wish you all a Very Happy Makar Sankrant_ “* 💐💐💐💐

World beyond the presence

Amazing video! Make sure before watching it that the sound is activated. A confusing merge of 2020 milestones. The clip is intense and emotional, and in a few minutes it will push you to experience a lot of emotions. It was a year full of detail, like momentum here. Produced by Cee-Roo, a Swiss composer for The Voices of the World.

Kisan sakaratmak ho manege baat…ya sarkar nakartmak ho karegi aaghat….

किसान सकारात्मक हो मानेंगे बात … या सरकार नकारात्मक हो करेगी आघात …!

कौशल किशोर चतुर्वेदी

केंद्र सरकार और किसान संगठनों के बीच बैठकों का दौर जारी है लेकिन बात बन नहीं पा रही है। किसानों का हठ है कि तीनों कृषि क़ानून रद्द किए जाएं तो केंद्र सरकार का मानना है कि जिन बिन्दुओं पर संशय हैं उन पर बातचीत हो और सरकार संशोधन के ज़रिये किसानों को संतुष्ट करने पर सहमति बनाने को राज़ी है। मोदी नीत सरकार में अब तक यह नौबत नहीं आयी है कि कोई फ़ैसला लिया गया हो और सरकार ने दबाव में फ़ैसला वापस ले लिया हो।जहाँ तक किसानों की दिल्ली घेरने की चेतावनी की बात हो तो इस तरह की नादानी शायद किसानों को भारी पड़ सकती है। तानाशाही तो हमेशा सिर्फ़ सरकारों की ही चली है, सरकार के सामने जनता ने तानाशाही पूर्ण तरीक़े से पेश आने की जब-जब कोशिश की है…तब-तब उसे मुँह की ही खानी पड़ी है। वर्ष 2010 में मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल का उदाहरण ही ले लें। किसानों ने राजधानी की घेराबंदी की थी। कई दिन तक राजधानी किसानों की बंधक बन गई थी। सरकार ने बात भी की थी, समाधान का भरोसा भी दिलाया था लेकिन अचानक पुलिस और प्रशासन सक्रिय हुआ और किसानों को मुँह की खानी पड़ी थी और लाठी के दम पर ही किसानों की हठ पर सरकार ने निरंकुशता के साथ जीत हासिल कर ली थी। दिल्ली में भी अगर किसानों ने घेराबंदी की कोशिश की तब दिल्ली के बार्डर पर हज़ारों की संख्या में जमा हुए किसानों का नज़ारा भी 2010 के भोपाल में जमे किसानों की दुर्दशा से अलग नहीं होगा। पुलिस प्रशासन को जब फ़्री हैंड मिलता है तब वह जनता या किसानों को नाकों चने चबवाने में देर नहीं लगाते। दिल्ली में किसानों के जमावड़े और सरकारी रवैये में डर इतना ही है कि जनहानि न हो।अगर किसान उग्र होता है तो दिल्ली में जिस तरह के हालात हैं उसमें बलप्रयोग होने पर जनहानि की आशंका बलवती होती जा रही है।यह देश के लिए भी दुर्भाग्यपूर्ण होगा और किसानों के लिए भी अफ़सोस जनक होगा तो सरकार भी ख़ुद को माफ़ नहीं कर पाएगी।
किसानों की माँग है कि केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए तीनों क़ानून किसान विरोधी हैं। इन कानूनों को रद्द करने के अलावा किसान कुछ भी स्वीकार करने को तैयार नहीं है। केंद्र सरकार का मानना है कि क़ानूनों में वहाँ संशोधन को सरकार तैयार है जहाँ किसानों को लग रहा है कि क़ानून से नुक़सान है। पर सरकार क़ानून रद्द करने की माँग स्वीकार करने को राज़ी नहीं है। अब यह लड़ाई शेर और बकरी के जैसी हो गई है। यहाँ पर भी शेर सरकार है और किसानों की स्थिति बकरी के जैसी है। जब तक बातचीत जारी है तब तक ही किसान के पास ख़ैर मनाने का विकल्प है। जब सरकार ने मुँह फेरा तो मानो खैर नहीं रहेगी। बकरी कितना भी मिमियाए कि शेर उसकी जान लेकर ग़लत कर रहा है लेकिन जंगल के राजा की सेहत पर इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता।ठीक ऐसी ही स्थिति फ़िलहाल किसानों और केंद्र सरकार के बीच हो गई है। किसानों के सम्मान में सरकार बात करने को तैयार हुई है तो यह भी नहीं माना जा सकता वह पूरी तरह से समर्पण कर अपने फैसलों पर पूरी तरह से सवालिया निशान लगाने का मौक़ा देश या देश के किसानों को देगी। नोट बंदी और जीएसटी जैसे फ़ैसले देश के सामने हैं, पर सरकार ने ख़ुद को सही साबित किया और पहले से ज़्यादा सीटें जीतकर भाजपा ने केंद्र में वापसी भी की। ऐसे में अगर किसान सोच रहे हैं कि क़ानून रद्द होंगे तो शायद वह ग़लत भी साबित हो सकते हैं और इसका खामियाजा भी उन्हें उठाना पड़ सकता है। किसान चाहे पंजाब, हरियाणा का हो या उत्तरप्रदेश, बिहार का, गुजरात का हो या पश्चिम बंगाल का और कश्मीर का हो या तमिलनाडु का …सरकारों की सेहत पर इससे कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता। किसानों के पास एक ही विकल्प है कि वे सरकार के सुर में सुर मिलाने के लिए सकारात्मक रवैया अपनाने को मजबूरी में भी तैयार रहें वरना सरकार नकारात्मक रवैया अपनाते हुए किसानों को बलपूर्वक हटाने और दमन करने के लिए आघात करने पर मजबूर होने को तैयार है।

किसानों के मुताबिक़ पहले कृषि कानून के तहत केंद्र सरकार “एक देश, एक कृषि मार्किट” बनाने की बात कह रही है। पैन कार्ड धारक कोई भी व्यक्ति, कम्पनी, सुपर मार्केट किसी भी किसान का माल किसी भी जगह पर खरीद सकते हैं। किसानों का माल खरीदने वाले पैन कार्ड धारक व्यक्ति, कम्पनी या सुपर मार्केट को 3 दिन के अंदर किसानों के माल की पेमेंट करनी होगी। सामान खरीदने वाले व्यक्ति या कम्पनी और किसान के बीच विवाद होने पर एसडीएम इसका समाधान करेंगे। समाधान के लिए 30 दिन का समय दिया जाएगा, अगर बातचीत से समाधान नहीं हुआ तो एसडीएम द्वारा मामले की सुनवाई की जाएगी। फिर अपील और फिर 30 दिन में समाधान का प्रावधान। पर कोर्ट का दरवाजा नहीं खटखटाया जा सकता।
दूसरे क़ानून के तहत आलू, प्याज़, दलहन, तिलहन व तेल के भंडारण पर लगी रोक को हटा लिया गया है। अब समझने की बात यह है कि हमारे देश में 85% लघु किसान हैं, किसानों के पास लंबे समय तक भंडारण की व्यवस्था नहीं होती है यानि यह क़ानून बड़ी कम्पनियों द्वारा कृषि उत्पादों की कालाबाज़ारी के लिए लाया गया है, ये कम्पनियाँ एवम सुपर मार्किट अपने बड़े-बड़े गोदामों में कृषि उत्पादों का भंडारण करेंगे एवम बाद में ऊंचे दामों पर ग्राहकों को बेचेंगे।
तीसरा क़ानून सरकार द्वारा कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग के विषय पर लागू किया गया है।इसके तहत कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग को बढ़ावा दिया जाएगा जिसमें बड़ी- बड़ी कम्पनियाँ खेती करेंगी एवम किसान उसमें सिर्फ मजदूरी करेंगे। इस नए अध्यादेश के तहत किसान अपनी ही जमीन पर मजदूर बन के रह जायेगा। इस अध्यादेश के जरिये केंद्र सरकार कृषि का पश्चिमी मॉडल हमारे किसानों पर थोपना चाहती है।

  1. तीन कृषि कानूनों को लेकर देश के किसान के मन में कुछ इसी तरह की आशंकाएं हैं।तो केंद्र सरकार का कहना है कि इन 3 कृषि अध्यादेशों से किसानों के लिए फ्री मार्किट की व्यवस्था बनाई जाएगी जिससे किसानों को लाभ होगा। पर किसानों के विरोध के बाद यदि केंद्र सरकार संशोधन के लिए राज़ी हुई है तो मतलब साफ़ है कहीं न कहीं कानूनों में खामियां हैं। कहीं न कहीं सरकार को यह मालूम है कि किसानों के लिए खेती को लाभ का धंधा बनाना उसके लिए संभव नहीं है इसलिए किसानों को खुले बाज़ार के हवाले कर दिया जाए। ताकि बाद में किसानों की बर्बादी पर मातम मनाने का ठेका भी किसानों के हिस्से में चला जाए। सरकार किसानों के मामलों से पूरी तरह से पल्ला झाड़ लेगी और समय समय पर व्यापारियों पर शिकंजा कस किसानों की सहानुभूति हासिल करती रहेगी।

congress ko bhi ratna hoga- chairevati mantra …jiske sahare bhajpa sadhti satta sangathan tantra……article by Kaushal kishore chaturvediji

कांग्रेस को भी रटना होगा चरैवेति-चरैवेति मंत्र… जिसके सहारे भाजपा साधती सत्ता- संगठन तंत्र

कौशल किशोर चतुर्वेदी

भाजपा के प्रशिक्षण वर्ग की प्रक्रिया मंडल स्तर पर शुरू हो चुकी है। मध्य प्रदेश में उपचुनाव में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद भारतीय जनता पार्टी रुकी नहीं, थकी नहीं और सतत चलती जा रही है, बढती जा रही है। भाजपा में संगठन स्तर पर ‘चरैवेति-चरैवेति’ मंत्र पर अमल करते हुए मंडल स्तर पर प्रशिक्षण वर्ग की शुरुआत हो चुकी है। एक हज़ार से ज्यादा मंडलों में भाजपा कार्यकर्ताओं को पार्टी की रीति-नीति और विचारधारा से ओतप्रोत करने और आधुनिक डिजिटल मीडिया तक से रूबरू कराने और सरकार की उपलब्धियों को जन-जन तक पहुँचाने के लिए सघन प्रयास शुरु हुए है। प्रशिक्षण का महत्व क्या है? मिसरोद मंडल के कार्यकर्ताओं को बताते हुए विधायक कृष्णा ग़ौर ने बताया कि एक वर्ष की योजना बनानी हो तो पेड़ लगाओ, 25 वर्ष की योजना बनानी हो तो बाग-बग़ीचा लगाओ और 100 वर्ष की योजना बनानी हो तो प्रशिक्षण दो। प्रशिक्षण के ज़रिए कई पीढ़ियाँ रीति-नीति, विचारधारा में ढल जाती हैं जिसका फ़ायदा संगठन को सदियों तक मिलता है। चरैवेति-चरैवेति की इसी सोच और प्रशिक्षण के महत्व के चलते ही भाजपा संगठन स्तर पर मज़बूत है तो सत्ता के साथ बिना थके, बिना रुके कंधे से कंधा मिलाकर बढ़ती जा रही है। और लक्ष्य के प्रति समर्पण और कार्यकर्ताओं के अथक परिश्रम का ही नतीजा है कि भाजपा ने 5 साल की जगह मध्यप्रदेश में 15 महीने में ही न केवल सत्ता में वापसी की है बल्कि उपचुनावों में भी कांग्रेस को धूल चटाते हुए साबित कर दिया है कि भाजपा दुनिया का सबसे बड़ा राजनैतिक दल है तो उसके पीछे चरैवेति-चरैवेति मंत्र को आत्मसात किए कार्यकर्ताओं का ही बल है।

भाजपा के मंडल स्तर पर प्रशिक्षण की गंभीरता का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने मिसरोद मंडल के प्रशिक्षण वर्ग के उदघाटन सत्र को संबोधित किया।तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीहोर जिले के शाहगंज मंडल को संबोधित किया। प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने प्रशिक्षण और कार्यकर्ता का महत्व बताया कि कार्यकर्ता पार्टी का चेहरा होता है, प्रवक्ता होता है। भविष्य में इन्हीं कार्यकर्ताओं में से नेतृत्व निकलकर आता है। प्रशिक्षण की बदौलत साधारण कार्यकर्ता भी शिखर तक पहुंच जाता है, यह बात हमारे नेताओं ने साबित की है। इसीलिए भारतीय जनता पार्टी में कार्यकर्ता निर्माण एक सतत प्रक्रिया है। पार्टी अपने विचार से कार्यकर्ताओं को अवगत करा सके, यही प्रशिक्षण का उद्देश्य है। प्रशिक्षण वर्ग में सीखी गई बातें हमें बहुत आगे तक ले जाती हैं। प्रत्येक कार्यकर्ता बूथ-बूथ तक अपनी राजनीतिक और सामाजिक जिम्मेदारी का निर्वाह कर सके, इसके लिए प्रशिक्षण बेहद जरूरी है।
वैसे अगर भाजपा में देखा जाए तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हों या फिर प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा या मोदी-शाह की जोड़ी … सतत चलते-चलते ही सभी अपनी-अपनी मंज़िलों तक पहुँच गए और मंज़िल पर पहुंचने के बाद भी न तो रुके और न ही थके। संगठन की मज़बूती और सत्ता पर मज़बूत पकड़ इसी चरैवेति का ही प्रमाण है। प्रशिक्षण के ज़रिए जहाँ पंडित दीनदयाल उपाध्याय, डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी और अटल बिहारी वाजपेयी को याद किया गया तो पंडित नेहरू की विफलता और धारा 370 हटाकर कश्मीर में भाजपा की सफलता का बखान भी कार्यकर्ताओं के बीच गर्व से किया गया। आगामी नगरीय निकाय चुनाव हों या फिर पंचायत चुनाव उपलब्धियों की यह घुट्टी कार्यकर्ताओं में ऊर्जा भरने के लिए और मैदान में फ़तह के लिए काफ़ी है।

  1. तो दूसरी तरफ़ प्रदेश में कांग्रेस संगठन सोया-सोया सा है। लगता है हार की निराशा नेताओं पर हावी है। थकान ने डेरा डाल रखा है, सब कुछ रुक सा गया है-थम सा गया है। कांग्रेस उपचुनावों में न तो अपनी 15 माह की उपलब्धियों को गिनाकर मतदाताओं को लुभा सकी। और न ही प्रदेश में लोकतंत्र की हत्या का आरोप साबित कर सत्ता में वापसी के सपने को साकार कर पाई।और अब हाथ पर हाथ रख शायद आगामी विधानसभा चुनावों तक विश्राम का मन बना चुकी है।फिर ऐन वक़्त पर गुटीय आधार पर टिकट वितरण की प्रक्रिया में जुटेगी, हालाँकि एक गुट कम हुआ है पर पूरी कांग्रेस कमजोर हुई है…उपचुनाव के परिणामों से यह साफ़ हो चुका है। यह तय है कि कांग्रेस इस बीच हुए पंचायत और नगरीय निकाय चुनाव में हार का ठीकरा फोड़ने की वजहें भी सोते-सोते भी ढूँढ ही लेगी। पर यह बात सौ फ़ीसदी सच है कि कांग्रेस का उद्धार भी चरैवेति-चरैवेति मंत्र पर अमल के बिना नहीं होगा। विपक्ष के रूप में भी ज़िंदा रहना है तब भी चरैवेति-चरैवेति ही रटना होगा वरना संसद की तरह राज्यों में विधानसभाओं में भी कांग्रेस के हाथ से विपक्ष में बने रहने का सम्मान भी गुम होने का संशय बना रहेगा। यह भी तय है कि मध्यप्रदेश में कमलनाथ और दिग्विजय के बाद चरैवेति-चरैवेति के मंत्र पर अमल करने वाले युवाओं की टोली जब तक सक्रिय नहीं होगी…तब तक बिना रुके, बिना थके सत्ता को मुट्ठी में लाने का प्रयास फलीभूत नहीं होगा। क्योंकि चरैवेति-चरैवेति मंत्र ही भाजपा के लिए सत्ता-संगठन तंत्र को साधता है और इसी मंत्र को सिद्ध कर ही कोई दूसरा दल भी सत्ता से वनवास के दलदल से पार पा सकता है।
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!