Opposition or Rulling party festival for both Black day or white day by Shri Kaushal Kishore Churvedi

विपक्ष और सत्ताधारी दल के दो त्यौहार … ब्लैक डे और व्हाइट डे …

कौशल किशोर चतुर्वेदी

मध्यप्रदेश में कांग्रेस ने आज काला दिवस मनाया और सरकार के सौ दिन का काला चिट्ठा प्रदेश की जनता के सामने रखने की रस्म निभाई। अब तीन दिन बाद भाजपा इसका मुँहतोड़ जवाब सरकार की तरफ़ से सत्ताधारी पार्टी का फ़र्ज़ निभाते हुए अघोषित तौर पर श्वेत पत्र पेश करेगी यानि व्हाइट डे मनाएगी और सरकार की उपलब्धियाँ गिनाएगी। दोनों ही आयोजन 100 दिन पूरा होने के उपलक्ष्य में हो रहे हैं। एक विपक्षी दल के नेताओं-कार्यकर्ताओं ने दुख भरे दिलों से मनाया तो दूसरा सरकार समर्थित दल के नेता-कार्यकर्ता खुशी खुशी मनाएँगे।

कांग्रेस का आयोजन प्रदेश में कमलनाथ के नेतृत्व में बनी कांग्रेस सरकार के गिरने के 100 दिन पर था। विरोध था, लोकतंत्र की हत्या का आरोप था और विधानसभा की मर्यादा को ताक पर रखकर बनाई गई सरकार के प्रति आक्रोश था। पूरा का पूरा वातावरण मानो काला होकर गवाही दे रहा था कि सरकार ने काला पीला कर जो काम किया है, उससे ज़्यादा घृणित कोई काम न इससे पहले कभी हुआ है और न इसके बाद कभी होगा। उम्मीद भी है और भरोसा भी है कि बुरे काम का बुरा नतीजा जल्दी सामने आएगा। काम बुरा था इसीलिए प्रदेश को कोरोना ने जकड़ा, क़ानून व्यवस्था बिगड़ी, हत्याएँ बढ़ी, बलात्कार में फिर प्रदेश का पहले पायदान पर पहुँचा, 100 दिन में मंत्रिमंडल का विस्तार तक नहीं कर पाए, चुनी हुई सरकार गिराकर संविधान का अपमान किया है, अंबेडकर का ही अपमान किया है, सुप्रीम कोर्ट ने विधानसभा अध्यक्ष की मर्यादा को तार-तार कर दिया है वग़ैरवह वग़ैरह। तमाम आरोपों के साथ सनसनीख़ेज़ आरोप है कि सरकार के मातहत महत्वपूर्ण नेताओं और पत्रकारों के फ़ोन भी टेप कर रहे हैं? किसानों की क़र्ज़माफ़ी की फ़ाइल बंद कर बेहद ग़लत काम किया है। विधायकों से ख़रीद फ़रोख़्त के ज़रिए इस्तीफ़ा दिलवाकर पाँच साल के लिए चुनी हुई सरकार गिराने का जो घिनौना काम किया है, उसका जवाब जनता देगी। जिस जनता के मत का अपमान किया गया है। सबसे बड़ी उम्मीद यह है कि 24 उपचुनाव में जनता एक बार फिर जवाब देगी और कमलनाथ एक बार फिर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री बनेंगे जिन्होंने 15 महीने में जनता का भरोसा जीता था।ब्लैक डे का अंतिम निष्कर्ष 24 उपचुनाव जिसमें 22 पर वही कांग्रेसी चेहरे भाजपा का कमल खिलाने के लिए मैदान में होंगे जिन्होंने इस दिन को कांग्रेस के लिए काला बना दिया है।

कांग्रेस के काला दिवस का अब भाजपा जवाब देगी।
भाजपा शिवराज सरकार के 100 दिन पूरे होने पर उपलब्धि दिवस मनाएगी।
शिवराज सरकार की उपलब्धियों को कार्यकर्ता जनता तक पहुंचाएंगे। तीन जुलाई को भाजपा प्रदेश भर में जनता को सरकार की उपलब्धियां बताएगी और इस तरह बताएगी कि जनता की आँखें खुल जाएँगीं।किसानों के खाते में सरकार ने कितनी राशि डाली, मज़दूरों के खाते का कितना ख्याल रखा, कोरोना को कितने अच्छे ढंग से नियंत्रित किया जो विरासत में मिला था, क़ानून व्यवस्था दुरुस्त है जिस पर कांग्रेस ग़लत आरोप लगाने से बाज़ नहीं आ रही है, गेहूँ ख़रीदी, चना ख़रीदी का कीर्तिमान बना, संबल, बिजली बिलों में राहत, लॉकडाउन में सबका ख्याल रखना, भांजे भांजियों को राहत पहुँचाना, विधवा निराश्रितों की पेंशन खातों में पहुँचाना, मनरेगा और रोज़गार कल्याण सरीखी उपलब्धियाँ यानि सभी वर्गों का यदि कल्याण हुआ है तो सिर्फ़ इसलिए कि भाजपा की सरकार बनी है।यह चमत्कार तो सौ दिन में हुआ है, जब एक हज़ार दिन होंगे तब देखना सरकार क्या करती है? जनता है कि सब जानती है। 15 महीने में मध्यप्रदेश रसातल में पहुँच चुका था अब आसमान में उड़ान भरने वाला है। कांग्रेस की सरकार को भाजपा ने नहीं गिराया, वह तो अपने बोझ से गिरी है। भाजपा विकास में भरोसा रखती है विनाश में नहीं।कुछ इसी तरह उपलब्धियों से भरा रहेगा भाजपा का व्हाइट डे। फिर बात उपचुनाव की, वो 22 चेहरे ही चुनाव जीतेंगे जो असत्य, बुराई का साथ छोड़कर अच्छाई का दामन थामे हैं और कमल खिलाने के लिए जनता ने पूरा मन बना लिया है। इसी उम्मीद के साथ भरोसा जताकर व्हाइट डे भी विदा हो जाएगा।

नेता सरकार और विपक्ष दोनों जगह रहते हुए असीम उत्साह से भरपूर रहते हैं। ब्लैक डे मनाकर भी ख़ुश और व्हाइट डे मनाकर भी ख़ुश। जनता भ्रम में है, भ्रमित है और सबकी बातें सुन सुनकर पागलपन के दौरे आने लगे हैं कि करे तो क्या करे? समझ में ही नहीं आता कि कौन सही है और कौन झूठा है? किसने उसकी तक़दीर बदली है और कौन ग्रहण बनकर उसका ग्रास कर रहा है? ब्लैक डे और व्हाइट डे ही मानो उसकी ज़िंदगी की सच्चाई बनकर रह गए हैं।

Leave a Comment

Do NOT follow this link or you will be banned from the site!