रविवार है … सूर्यग्रहण में घर पर योग करें और आत्मनिर्भरता के मंत्र गुनें… कौशल किशोर चतुर्वेदी

 

रविवार है … सूर्यग्रहण में घर पर योग करें और आत्मनिर्भरता के मंत्र गुनें…

कौशल किशोर चतुर्वेदी

कोरोना के चलते वैसे तो सभी लोग घर पर रहने को मजबूर हैं लेकिन यह रविवार कुछ ख़ास है। सूर्यग्रहण पड़ रहा है जिसमें माना जाता है कि सूर्य की तरफ़ न देखा जाए।यानी चुपचाप घर पर रहें। यह भी संयोग है कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस भी आज ही है तो वो घर पर रह कर ही योग करें। सूर्यग्रहण का भी यही संकेत है और कोरोना का भी यही संदेश है तो सरकार भी यही कह रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के लिए अधिकारियों और कर्मचारियों से सुझाव आमंत्रित करने, उनके संकलन, परीक्षण और क्रियान्वयन के उद्देश्य से बनाए गए मध्यप्रदेश इनोवेशेन चैलेंज पोर्टल का शुभारंभ भी शनिवार को किया है। तो प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सुझावों पर भी चिंतन करने का यह अच्छा अवसर है जिसे सरकार तक पहुंचाया जा सकता है।रविवार को छुट्टी के दिन सूर्य ग्रहण के दिन और अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर घर पर रह कर योग भी करें और प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए अच्छे सुझावों को गुनकर सरकार तक पहुँचाएँ ताकि कोरोना संकट के कारण उपजी परिस्थितियों से निपटने के लिए आत्मनिर्भरता की राह पर आगे बढ़ा जा सके। किसी भी रविवार के दिन इससे अच्छे काम नहीं किए जा सकते हैं।

महामारी अभी नहीं हारी-

मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोविड-19 की बड़ी समस्या को जहाँ आम नागरिकों ने चुनौती के रूप में स्वीकार कर इसके नियंत्रण में भागीदारी की वहीं सभी अधिकारियों और कर्मचारियों ने भी अपनी पूर्ण क्षमता से जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए इस महामारी को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।हालाँकि अब यही नहीं माना जा सकता की महामारी नियंत्रित हो गई है क्योंकि हर रोज़ नए नए मरीज़ भी सामने आ रहे हैं तो मौतों का आंकड़ा भी बढ़ रहा है।ऐसे में कहा जा सकता है कि महामारी अभी हारी नहीं है और सावधानियाँ लगातार बरतना ज़रूरी है।

कोरोना चुनौती में अवसर तलाशो –

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 एक चुनौती भी थी और एक अवसर भी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आत्मनिर्भर भारत बनाने का मंत्र दिया है। इसके लिए आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश भी बहुत आवश्यक है। प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए उपयोगी सुझाव मिलेंगे तो उससे प्रदेश की दशा बदलने में बहुत सहयोग मिलेगा। लोकल को वोकल बनाने का मंत्र हो अथवा कुटीर उद्योगों और एमएसएमई सेक्टर को मजबूत बनाने का सुझाव, विभिन्न उपायों से आत्मनिर्भरता को प्राप्त करना आवश्यक है। मध्यप्रदेश में किसानों के FPO के गठन की बात हो या स्व-सहायता समूहों को सशक्त बनाने की, अब तक बेहतर कार्य हुआ है। वरिष्ठ अधिकारियों से आगामी 30 जून तक सुझावों के साथ ही राजस्व वृद्धि के उपायों और सुशासन से संबंधित नवीन विधियों, विभागों के बेहतर कार्य संचालन की युक्तियों को भी संकलित किया जाएगा।प्रदेश के एक ज़िम्मेदार नागरिक होने के नाते हम सभी का भी यह कर्तव्य है कि प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए बेहतर सुझाव किसी न किसी तरह से सरकार तक पहुँचाए जाएँ ताकि प्रदेश के नागरिक सुखी हों, समृद्ध हों, स्वस्थ हों और ख़ुश रह सकें।

कोरोना में योग लाभकारी-

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून के अवसर पर प्रदेश वासियों से आव्हान किया है कि कोविड-19 की वजह से घर पर रहकर ही योग और प्राणायाम करें। सामूहिक योग कार्यक्रम की बजाय अपने घर पर रह कर ही योग करें। नियमित योग और सूर्य नमस्कार अच्छे स्वास्थ्य के लिए उपयोगी है, आज कोरोना संकट के दौर में शरीर को सशक्त बनाने में इसके महत्व को दुनिया भी समझ रही है।
प्रधानमंत्री ने योग का महत्व विश्व में स्थापित करते हुए अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून दुनिया को दिया है। कोरोना के संकट के समय योग अधिक महत्वपूर्ण हो गया है क्योंकि यह शरीर को स्वस्थ्य रखने और इम्यूनिटी बढ़ाने में भी मददगार है।

यादगार रविवार –
कोरोना काल में 21 जून को पड़ रहा यह रविवार हर व्यक्ति की यादों में शुमार होना तय है। मोदी को भूल भी जाएं और शिवराज को याद ना भी करें तब भी घर पर रहें योग करें और आत्मनिर्भरता के मन्त्र गुनें। दूसरों के लिए नहीं ख़ुद के लिए, अपने परिवार के लिए, अपने प्रदेश के लिए और अपने देश के लिए। निश्चित तौर से यह रविवार यादगार बन जाएगा।

Leave a Comment

Apna Post